योग मुद्रायें कैसे करती है लाभ Benefits of yog mudras

27
yog mudra
yog mudra

योग मुद्रायें कैसे करती है लाभ

मुद्रा का अर्थ है शरीर के हाव भाव

योग -आसन और प्राणायाम के मेल से बनता है।

ऋषि मुनियो द्वारा मुद्राओ को आसनो का एक रूप माना  गया है  , इन्हे आयुर्वेद के अनुसार आरोग्य का धन भी माना गया है।

पुराने समय में  योगी-मुनि  कुण्डलिनी को जागरण  के लिए योग-आसन और प्राणायाम के  साथ -साथ योग मुद्राओं  का अभ्यास करते थे और ध्यान और समाधी की अवस्था को प्राप्त करते थे।

मुद्राओं से  शारीरिक और मानसिक दोनों तरह की शक्तियों का विकास होता हैं। आसन द्वारा  जहाँ शरीर बलिष्ठ  होता है ,वही  मुद्राओं के  नियमित अभ्यास द्वारा  कई तरह के रोग दूर होते हैं,मन की चंचलता दूर होती है  हम मानसिक रूप से बलिष्ठ और सशक्त होते है और ध्यान की अवस्था को प्राप्त करते थे।

क्योंकि योग आसन करते समय इन्द्रियों की भूमिका ज्यादा और प्राणों की कम होती है।

जबकि मुद्राओं करते समय इन्द्रियों की भूमिका कम होती है ,और प्राणों की ज्यादा होती है।

नित्य की  दिनचर्या में भी हम अपने शरीर और मन को स्वस्थ रखने के लिए इन क्रियाओं का  अभ्यास कर सकते हैं। इसमें हाथों की उँगलियों को सपर्श करके  आंतरिक शक्ति से प्राणों का संचार करके  शरीर को स्वस्थ किया जाता है।

इसे भी पढ़ेंः    सूजी के दही वड़े Semolina Dahi Bada

हमारा शरीर पांच तत्वों से बना हुआ है–

जब ये पाँचों तत्व सामान्य अवस्था  में विद्यमान रहते हैं तो हम  निरोगी  रहते  है और यदि इनका  संतुलन बिगड़ जाये तो शरीर ,में  रोग उत्पन्न हो जाते हैं।नियमित दिनचर्या में इन मुद्राओं द्वारा हम अपने शरीर का संतुलन बनाए  रख सकते है

आइये जाने हाथ की पांच उंगलियाँ पांचो तत्वों का प्रतिनिधित्व इस तरह करती है —

फीविलेमेंटसीनोरह

  1. अंगूठा : अग्नि
  2. तर्जनी : वायु
  3. बीच वाली ऊँगली : आकाश
  4. अनामिका : पृथ्वी
  5. छोटी ऊँगली : जल 

 

आयुर्वेद में मुख्य रूप से 11 तरह की मुद्राएँ बताई गई हैं—-

    1. ज्ञान मुद्रा / ध्यानमुद्रा
    2. वायुमुद्रा
    3. शून्यमुद्रा
    4. पृथ्वीमुद्रा
    5. प्राणमुद्रा
    6. अपानमुद्रा
    7. अपानवायु मुद्रा
    8. सूर्यमुद्रा
    9. वरुणमुद्रा
    10. लिंगमुद्रा
    11. धारणाशक्ति मुद्रा

हमारे अन्य लेखों  में इन मुद्राओं के बारे में विस्तृत रूप से बताया गया है।

 

 

 

कृपया ध्यान दें उपलब्ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। Read More