सूखी खांसी के कारण और इस के अचूक घरेलु उपचार – Sookhi khansi ke liye gharelu upchar

0
289
सूखी खांसी के कारण और इस के अचूक घरेलु उपचार - Sookhi khansi ke liye gharelu upchar
सूखी खांसी के कारण और इस के अचूक घरेलु उपचार - Sookhi khansi ke liye gharelu upchar
लगातार खांसना कोई अच्छी  बात नहीं , आप कभी नहीं चाहेंगे के एक कमरे में सब शांत बेठे हो और सिर्फ आप के खांसने की आवाज आ रही हो | या कल्पना कीजिये के एक रेस्टोरेंट में सब लोग अपनी प्लेटो को छिपा  रहे हो सिर्फ आप के खांसने की वजह  से  इसी खांसी बहुत असुविधाजनक जनक होती है।
खांसी दो प्रकार  की हो सकती है सूखी खांसी और बलगम वाली खांसी | सूखी  खांसी से किसी तरह का थूक या बलगम नहीं बन ती, इस प्रकार  की खांसी नाक या गले के विषाणुजनित संक्रमण के दौरान होती है | सूखी  खांसी से ये एहसास होता है के जैसे हमारे गले में कुछ  अटक गया हो और खांसने के बावजूद भी निकल ना रहा हो।
सूखी खांसी का घरेलु इलाज
बादाम
• 7 बादाम पूरी रात पानी में भिगो कर छोड़ दे
• सुबह इन बादामो  का छिलका  उतार दे
• फिर इन को अच्छी तरह मसल  कर पेस्ट बना ले
• इस में 2 चमच मखन और 2 चमच चीनी मिला ले
 • और इस का सेवन सुबह और शाम को करे |
शहद
शहद बहुत  समय  पहले से ही खांसी के  इलाज के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है | शहद में anti-oxidant और anti-microbial गुण होते है | शहद को गर्म दूध में मिला कर सेवन करने से खांसी से आराम तो मिलेगा ही साथ ही खांसी के कारण छाती  के दर्द से भी राहत  मिलेगी
हल्दी
हल्दी में anti-viral, anti-bacterial, और anti-inflammatory गुण होते है | हल्दी के इन गुणों की वजेह से ये वायरल इन्फेक्शन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है |एक चमच हल्दी कोअजवाइन के साथ मिला कर उबालने के लिए एक गिलास पानी में डाल दे , इस मिश्रण को तब तक उबाले जब तक के गिलास का पानी आधा ना रह जाये और फिर इस में थोडा स शहद मिला लीजिये इस मिश्रण का दिन में तीन बार सेवन करे |
अदरक
अदरक के छोटे छोटे टुकड़े कर के उस का चूरन बना लीजिये और पानी में डाल कर उबाल लीजिये , जब पानी ठंडा हो जाये फिर इस को पी लीजिये , और इस विधि को दिन में तीन बार करे  साथ साथ अदरक का तेल अपने सीने पर मालिश करे
लहसुन
एक गिलास पानी को उबलने के लिए रखें इस में थोडा सा लहसुन और अजवाइन की पत्ती डाल दे और जब से मिश्रण ठंडा हो जाये इस में शहद मिला कर दिन में तीन बार इस का सेवन करे |
नींबू
2 चम्‍मच नींबू के रस में 1 चम्‍मच शहद मिक्‍स करें। इसे दिन में कई बार लें। इससे गले की खराश दूर होगी।
खांसी कम करने के अन्य तरीके
सुखी खांसी के लिए दिन में 2 से 3 बार गरम पानी में सेंधानमक डाल कर गरारे करने से फायदा मिलता है|
यदि आप दही खाते है, तो खांसी के समय इसे खाने से बचे, और रात्रि के समय हल्दी के दूध का सेवन करे
तुलसी, अदरक और काली मिर्च की चाय दिन में दो बार पिने से भी खांसी में राहत मिलती है।
डॉक्टर द्वारा बताई गई चूसने वाले गोलियों से भी खांसी में आराम मिलता है।
खांसी में त्रिफला और शहद को बराबर मात्रा में लेने से भी राहत मिलती है।
सुखी खांसी में काली मिर्च को पीसकर घी में भूनकर लेना भी फायदेमंद होता है|
काली मिर्च, मुलहठी, सौंठ तीनो को मिलाकर चूर्ण बनाले और फिर शहद के साथ लेने से भी खांसी खत्म होती है।
काले अंगूर का रोजाना एक गिलास जूस पिने से खांसी में आराम मिलता है, इसके साथ ही शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र भी मजबूत होता है।
खांसी का घरेलू उपाय
  1. चम्मच अदरक का रस में एक चोथाई शहद एवं चुटकी भर हल्दी मिलाकर लेने से खांसी में फायदा होता है और खांसी जल्दी ही दूर हो जाती है|
  2. चम्मच में शहद के साथ पिसी हुई कालीमिर्च मिलाकर पीने से खांसी में फायदा होता है और खांसी जल्दी ही दूर हो जाती है|
  3. १ बड़ा चम्मच अजवाइन के पते का रस एवं हल्दी मिलाकर गरम कर ले| फिर उसे ठंडा होने दे, ठंडा होने के बाद शहद मिलाकर पीने से खांसी में फायदा होता है और खांसी जल्दी ही दूर हो जाती है।
  4. भुने हुए चने को कालीमिर्च के साथ खाने से खांसी गायब हो जाती है|
सुखी और तर खांसी
भुनी हुई फिटकरी दस ग्राम और देशी खांड 100 ग्राम, दोनों को बारीक़ पीसकर आपस में मिला ले और बराबर मात्रा में चौदह पुड़िया बना ले। सुखी खांसी में 125 ग्राम गर्म दूध के साथ एक पुड़िया नित्य सोते समय ले। गीली खांसी में 125 ग्राम गर्म पानी के साथ एक पुड़िया नित्य सोते समय ले।
पुरानी खांसी
पुरानी खांसी के लिए फिटकरी का फुला
फिटकरी को पीसकर लोहे की कड़ाही में या तवे पर रखकर आग पर चढ़ा दे। फूलकर पानी हो जाएगी। जब सब फिटकरी पानी होकर नीचे की तरफ से खुश्क होने लगे तब उसी समय आंच तनिक कम करके किसी छुरी आदि से उल्टा दे। अब फिर दोबारा आंच थोड़ी तेज करे तांकि इस तरफ भी नीचे से खुश्क होने लगे। फिर इस खुश्क फूली फिटकरी का चूर्ण बनाकर रख ले। इस तरह फिटकरी का कई रोगो में सफलतापूर्वक बिना किसी हानि के में व्यवहार में लायी जाती हैं।
विशेष- इससे पुरानी से पुरानी खांसी दो सफ्तह के अंदर दुर हो जाती है। साधारण दमा भी दूर हो जाता है। गर्मियों की खांसी के लिए विशेष लाभप्रद है। बिलकुल हानिरहित सफल प्रयोग है।
काली मिर्च और मिश्री बराबर वजन लेकर पीस ले। इसमें इतना देशी घी मिलाये कि गोली सी बन जाए। झरबेरी के बेर के बराबर गोलिया बना ले। एक एक गोली दिन में चार बार चूसने से हर प्रकार की सूखी या तर खांसी दूर होती हैं। पहली गोली चूसने से ही लाभ प्रतीत होता हैं। खांसी के अतिरिक्त ब्रोंकाइटिस व् गले की खराश और गला बैठना आदि रोगो में भी लाभदायक हैं*
काली मिर्च बहुत बारीक पीसी हुयी, चार गुना गुड मिलकर आधा आधा ग्राम की गोलिया बना ले। दिन में तीन – चार गोलिया चूसने से हर प्रकार की खांसी दूर होती हैं।
यदि यह भी संभव ना हो तो मुनक्का के बीज निकालकर इसमें काली मिर्च रख कर चबाये और मुख में रखकर सो जाए। पांच सात दिन में खांसी में आराम आ जायेगा।
सहायक उपचार।
प्रात : स्नान के समय शरीर पर पानी डालने से पूर्व कुछ सरसों के तेल की बूंदे हथेली पर रखकर एक बूँद ऊँगली से एक नथुने से और दूसरी नथुने से सूंघने से खुश्की से होने वाला सर दर्द ठीक होता हैं। इस क्रिया से ज़ोर की आवाज़ के साथ उठने वाली सूखी खांसी में आशातीत आराम मिलता हैं।
गुदा पर दिन में तीन – चार बार सरसों का तेल चुपड़ने से हर प्रकार की खांसी दूर होती हैं, विशेषकर छोटे बच्चो की खांसी में विशेषकर लाभ होता हैं।
सूखी खांसी में पान के सादे पत्ते में एक ग्राम अजवायन रखकर चबा चबाकर रस निगलने से सूखी खांसी मिटती हैं। केवल अजवायन एक दो ग्राम खाकर ऊपर से गर्म पानी पीकर सो जाने से सूखी खांसी तथा दमा और श्वांस रोग में शीघ्र लाभ होता हैं। फेफड़ो के रोगो में अजवायन का प्रयोग करने से कफ की उत्पत्ति कम होती हैं। अजवायन का सेवन कफ नष्ट करके फेफड़े मज़बूत करता हैं व् छाती के दर्द में लाभ पहुंचाता हैं।
ये सभी तरीके नेचुरल है और आप ये तरीके बच्चो के लिए भी उपयोग कर सकते है  इससे किसी को कोई भी नुकसान नहीं होगाऔर आपको जरुर बहुत अच्छे परिणाम मिलेगा| लेकिन अगर आपको 2 हफ़्तों में भी आराम नहीं मिला है, तो आप अपने डॉक्टर को जरूर दिखाये ।।
source-WA
इन्हे भी देखिए
  दही है दूध से ज्यादा पोषक - Yogurt more nutritious than milk
कृपया ध्यान दें उपलब्ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्सक से अवश्य संपर्क करें। Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here